प्रधानाध्यापिका की मनमानी, महीने मैं तीन-चार दिन ही आती है स्कूल

पढ़ेगा इंडिया तो बढ़ेगा इंडिया को लेकर केंद्र व प्रदेश सरकार शिक्षा के स्तर को बढ़ाने के लिए तरह-तरह की योजनाओं का प्रलोभन देकर कर योजनाओं के माध्यम से करोड़ों रुपया खर्च कर योजनाओं  को संचालित कर नौनिहाल बच्चों को स्कूल मे दाखिला करा कर देश को साक्षर बनाने का अथक प्रयास  कर रही है वहीं कुछ ऐसे शिक्षक शिक्षिकाएं है जो सरकार के मंसूबों को बलाए  ताक पर रख सारी योजनाओं को  फेल करती हुई नजर आ रही है जो अपने मनमाने तरीके से विद्यालय नहीं जाती है और तो और अपने मध्य  अधिकारी से सांठगांठ कर मुफ्त का वेतन लेकर घर पर ही अन्य कार्य में व्यस्त रहते हैं ऐसा ही मामला जनपद मैनपुरी के विकास खंड सुल्तानगंज में देखने को मिला है जहां छात्रों ने आरोप लगाया है कि इनके विद्यालय की प्रधानाध्यापिका महीने में मात्र 3 या 4 दिन ही आती है और बाकी विद्यालय की देखरेख शिक्षामित्रों के ऊपर चल रही है आइए हम आपको ले चल रहे हैं ऐसे ही एक विद्यालय में जहां स्कूल समय से नहीं खुलता है इसके अलावा वहां पर प्रधानाध्यापिका स्कूल में न जाकर अपने घरेलू का कामकाज में व्यस्त रहती हैं हम बात करते हैं सुल्तानगंज क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय महार माई की
जनपद मैनपुरी से 23 किलोमीटर दूरी पर स्थित विकास खंड सुल्तानगंज के ग्राम महार मई मैं बनी प्राथमिक विद्यालय पर शिक्षा का स्तर मात्र शिक्षामित्रों पर टिका हुआ है बात दरअसल यह है कि यहां पर तैनात प्रधानाध्यापिका अर्चना सिंह ग्राम सुन्ना मई की रहने वाली है
जो विद्यालय से मात्र 3 किलोमीटर दूरी पर है लेकिन अपनी आराम सुविधाओं के चलते  मैनपुरी शहर में रह रही है जो महीने में मात्र 3 या 4 दिन ही विद्यालय आती है और पूरे महीने की उपस्थिति दर्ज कर वेतन ले रही हैं अब सवाल यह उठता है कि उक्त शिक्षिका 40 से लेकर ₹55000 तक का वेतन लेकर अपने दायित्व का निर्वाह क्यों नहीं कर रही है आखिर क्यों नौनिहाल बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही है
सूचना पर जन मीडिया कर्मी ने विद्यालय का जायजा लिया तो वहां पर उपस्थित छात्र छात्राएं समय 10:30 बजे के लगभग विद्यालय प्रांगण में शोर मचाते हुए खेल खेल रहे थे वहां पर कोई  शिक्षक व शिक्षामित्र मौजूद नहीं था जब विद्यालय के छात्रों से शिक्षकों के बारे में जानकारी ली तो उन्होंने बताया कि हमारी हेड अध्यापिका अर्चना सिंह महीने में तीन चार नहीं आती है और उपस्थिति रजिस्टर पर पूरे महीने की उपस्थिति भर देती है
वही मीडिया कर्मी की सूचना पर आनन-फानन में पहुंची शिक्षामित्र मीरा देवी ने बताया के विद्यालय राम भरोसे चल रहा है वह तो प्रतिदिन डेली आती है बाकी स्कूल के बच्चों से पूछ लो
तो बच्चों ने एक और शिक्षा मित्र विनोद कुमार को भी विद्यालय में ना आने की बात कही
इस संबंध में संवाददाता ने जब ग्रामीणों से पूछताछ की तो उनका भी यही जवाब निकला कि यहां तो बच्चे केवल उधम मचाते हैं पढ़ाई लिखाई तो नाममात्र की भी नहीं है केवल शिक्षामित्रों के सारे ही विद्यालय चल रहा है
तो सुन लीजिए छात्र-छात्राओं की क्या कहते हैं यह छात्र
हम आपको अवगत करा दे कि जो शिक्षक शिक्षिका विद्यालय नहीं जाती है उनके अपने से ऊपर अधिकारियों से सांठगांठ रहती है जो उन्हें हर आने वाली जांच मैं साफ-साफ निकाल देते हैं और उन पर कोई भी कार्यवाही नहीं की जाती है वहीं
इस संबंध में जब बेसिक शिक्षा अधिकारी विजय प्रताप से बात की तो उन्होंने उक्त अध्यापिका की जांच कर कार्रवाई करने की बात कही

About Mohd. Akram

Mohd. Akram

Check Also

सीपीएस में विज्ञान प्रदर्शनी का किया गया आयोजन

फतेहपुर। शनिवार को शहर के चिल्ड्रेन पब्लिक स्कूल में शैक्षिक अभिभावक गोष्ठी और विज्ञान प्रदर्शन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

25 हजार के इनामी अपराधी सहित पांच बाइक चोर गिरफ्तार …     |     पुलिस को आठ बाइक बरामद करने में मिली भारी सफलता     |     संगठन के संस्थापक की पुण्यतिथि पर प्रधानों ने दी श्रद्धाजली     |     सीपीएस में विज्ञान प्रदर्शनी का किया गया आयोजन     |     पुलिस ने वाहन चोर गिरोह का किया पर्दाफाश, चार गिरफ्तार     |     गैंगरेप के बाद बालिका की हत्या का खुलासा,आरोपियों के परिजनों ने किया हंगामा     |     ई-रिक्शा पर किसान के साथ हुयी पचास हजार की टप्पेबाजी लोक अदालत में लोन की किस्त जमा करने जा रहा था भुक्तभोगी     |     विज्ञान प्रदर्शनी का जिलाधिकारी ने अवलोकन कर बच्चों की प्रतिभा को सराहा     |     पूर्व सांसद के जनता दरबार में लक्ष्मी काटसिन मिल के श्रमिक पहुच लगायी गुहार     |     जनपद से जन आक्रोश रैली के लिये पांच हजार कार्यकर्ता करेगें कूच-जगनायक     |