मध्यप्रदेश के नीमच जिले के सिंगोली में बीजेपी सांसद सुधीर गुप्ता की बीजेपी कार्यकर्ता ने ही बजाई बैंड

मध्यप्रदेश के नीमच जिले के सिंगोली में सांसद सुधीर गुप्ता

“यदभावि न तदभावि भावि चेन्न तदन्यथा” अर्थात- जो नहीं होना है वो नहीं होगा, जो होना है उसे कोई टाल नहीं सकता। लगता है यह श्लोक और इसका अर्थ आने वाले समय मे भाजपा पर पूरी तरह सटीक बैठेगा। क्योंकि भाजपा जिस रफ्तार से देश की सत्ता में काबिज हुई थी। अब उसी रफ्तार से सत्ता से उतरती हुई भी दिख रही।

दरअसल मंदसौर लोकसभा सीट से भाजपा के सांसद सुधीर गुप्ता जिस रफ्तार से सांसद की कुर्सी पर काबिज हुए है। उसी रफ्तार से उतरते हुए भी दिखाई दे रहे है। कुछ ही दिनों में किसी सांसद के प्रति इतना विरोध क्षेत्रवासियों को पहलीबार देखने को मिल रहा है। क्षेत्र में कई जगह दौरे पर गए सांसद सुधीर गुप्ता को बीते 2 से 3 दिन में हर तरफ विरोध और आक्रोश का सामना करना पड़ा है। इसके पीछे भी स्वाभाविक तौर पर सांसद महोदय की कार्यशैली जवाबदार है। अब चुनावों के समय बढ़ती दौड़भाग को जनता बखूबी समझने लगी है और सांसद जी के बीते 4 सालों से ग्रामीण क्षेत्र में दौरे पर ना जाने से खफा ग्रामीणों में तो आक्रोश है ही, यहां उनकी ही पार्टी का कार्यकर्ता भी उनको अपनी ही पार्टी के नेताओ की जनता के प्रति जवाबदारीयो का पाठ पढ़ाता हुआ दिख रहा है। यह मामला बुधवार का है। जब सांसद सुधीर गुप्ता अपने संसदीय क्षेत्र के सुवासरा क्षेत्र में गांव देवरिया विजय के दौरे पर थे। यह सीट 2013 में हुए विधानसभा चुनाव में ही भाजपा ने खोई है। जहां पार्टी ने अपने उम्मीदवार के रूप में राधेश्याम पाटीदार को खड़ा किया था। लेकिन राधेश्याम पाटीदार कांग्रेस के हरदीपसिंह डंग के सामने नहीं टिक सके। इस सीट को बतौर राजनीति अगर
सामुदायिक दृष्टिकोण से देखा जाए तो यहां पाटीदार समाज की अच्छी संख्या है। और सिख समुदाय की संख्या पाटीदार समुदाय के लिहाज से काफी कम है। लेकिन बावजूद इसके हरदीपसिंह डंग के साथ मे क्षेत्र का एक बड़ा वोटबैंक है। जिन्होंने सामुदायिक नज़रिये को दरकिनार कर विकास को चुना है। इसी क्षेत्र में सांसद सुधीर गुप्ता दौरे पर थे। किंतु भीड़ में खड़े एक कार्यकर्ता ने सांसद जी को खरी खोटी सुनना शुरू कर दी। कार्यकर्ता का कहना था कि पूर्व विधानसभा प्रत्याशी राधेश्याम पाटीदार जब हम कार्यकर्ताओ की ही नहीं सुनते तो जनता की कब सुनेगे। आक्रोशित कार्यकर्ता ने 2013 हारने का कारण भी जनता की समस्याओं को हल नहीं करने को बताया है। अचम्भे की बात तो यह है कि कार्यकर्ता जब इतना कुछ बोल रहा था तब सांसद सुधीर गुप्ता उसके सामने निरुत्तर हो गए। उससे बड़ी घटना तब हुई जब एक पत्रकार द्वारा उनसे घटना को लेकर सवाल पूछे गए तो वह बगले झांकते हुए नज़र आये।

अगले ही दिन सांसद जी को नीमच के सिंगरौली में भी घेर लिया गया। जहां का भी वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है।यहां शुभम चतुर्वेद नामक युवक ने सांसद के सामने एससी- एसटी एक्ट को लेकर जमकर सवाल दाग दिए । जिनका जवाब सांसद नहीं दे पाए। दरअसल एससी-एसटी एक्ट का विरोध नीमच क्षेत्र में अधिक देखने को मिल रहा है। जिसके कारण वहां के आमजन में गुस्सा भी है। इस प्रकार के कई वाकिये हाल ही में बीजेपी के सांसद सुधीर गुप्ता के साथ कई बार हो चुके है। जो सीधे सीधे सांसद के खिलाफ क्षेत्र में बन रहे माहौल को दर्शा रहे है। अब सांसद जी को कौन समझाए की गांव-गांव में अब भाजपा के विरुद्ध लहर चल पड़ी है। आपको किसानों की या ग्रामीणों की चिंता ही थी तो पिछले वर्ष हुए किसान आंदोलन में किसानों के बुलाने पर भी आप क्यों नहीं गए ? तब चले जाते तो आज यह स्थिति नहीं होती। और यूँ दुम दबाकर भागना न पड़ता।

सांसद सुधीर गुप्ता सन 2014 में बीजेपी की ओर से मंदसौर लोकसभा सीट से खड़े हुए थे। इसके पहले उन्होंने कोई चुनाव कभी नही लड़ा है। इस चुनाव के दौरान चल रही मोदी लहर ने उनको भी अच्छे खासे वोटो से किनारा पार करवा दिया था। सुधीर गुप्ता तब 3 लाख 3 हजार 6 सौ 49 (303649) वोटो से कांग्रेस की मीनाक्षी नटराजन को हराकर विजयी बने थे । इतने अधिक अंतर से जितने के बावजूद भी सांसद क्षेत्र में कोई बड़ी विकास की योजना को नही ला पाए है। मात्र पुराने पड़े कांग्रेस की मीनाक्षी नटराजन के कुछ कामो को ही पूर्ण कर पाए है। अब क्षेत्र में बीजेपी सांसद का यह विरोध उनके साथ-साथ पार्टी की गरिमा पर भी बट्टा लगाता है। संसदीय क्षेत्र की जनता का आक्रोश ही उनके द्वारा बीते 4 सालों में किये गए कार्यो का परिणाम दे रहा है। उनके प्रति विरोध की आग अब उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं तक पहुच गई है। जिन्हें सांसद को जनता की सेवा का मतलब समझाना पड़ रहा है। साल के अंत मे आने वाले विधानसभा चुनाव इस बार सरकार को उनकी योजनाओ, विकास, शिक्षा, बेरोजगारी और बढ़ते महिला अपराधों का जवाब देंगे। वही अगले वर्ष आ रहे लोकसभा चुनाव में भी जनता के इस आक्रोश को देखते हुए भाजपा को भारी झटका लगने के आसार है।

About Mohd. Akram

Mohd. Akram

Check Also

 देश के 5 राज्यों में चुनाव पर है देश की नज़र ..

     देश के 5 राज्यों मध्यप्रदेश , छत्तीसगढ़ , राजस्थान , तेलंगाना और मिजोरम …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अभिनव व सोमदेव ने एसएफए चैंपियनशिप को सराहा : SFA के खिलाड़ियों को स्कॉलरशिप     |     ….. तो इस वजह से 7 अजूबों में शामिल किया गया एफिल टावर     |     ब्लेक होल का रहस्य !     |     बाइक व साइकिल की टक्कर में मजदूर घायल, हालात नाजुक     |     मुंबई से लखनऊ जा रहे विमान में बम होने की अफवाह से खलबली     |     अनाज के दाम नियंत्रित करने के लिए ठोस नीति बनाएं     |     कमल संदेश पदयात्रा के अंतर्गत लगाई चौपाल     |     लाल बहादुर शास्त्री स्कूल के बच्चों ने लगवाया रूबेला टीका     |     आम रास्ते से अतिक्रमण हटवाये जाने की डीएम से की मांग     |     अस्पताल के मरीजों व तीमारदारो को शीघ्र वितरित किये जायेगें कम्बल-तबरेज     |