आखिर कब लौटेगा सऊदी अरब से माँ की आँखों का तारा , नहीं हो रहा है कोई संपर्क

मां-बाप बड़े आस व उम्मीद के साथ अपने कलेजे के टुकड़े को अपने से दूर सऊदी कमाने के लिए भेजते हैं, इस उम्मीद में कि उनका बेटा वहां जाकर उनकी परिशानियों को दूर करेगा और उनकी आर्थिक स्थिति अच्छी हो जाएगी, लेकिन यदि उसी जवान बेटे से अचानक सम्पर्क टूट जाये और उसके बारे में कुछ भी पता ना चल पाए, तो माँ-बाप व परिवार के लोगों के दिलों पे क्या बीतती होगी इसका अंदाज़ा शायद हम आप तो नही लगा सकते लेकिन उन बूढ़े मां-बाप के आंखों से बहते आंसू उनकी तकलीफ को बयां करने के लिए काफी हैं।

वीओ:- कुशीनगर जनपद के फाजिलनगर से 3 किलो मीटर की दूरी पर कुचिया मठिया गांव है, इसी गांव में मोहम्मद शफीक अपने परिवार के साथ रहते हैं, इनके परिवार में 1 बेटी व 3 बेटे हैं, 2010 में इन्होंने अपने सबसे छोटे बेटे इमदाद हसन को सऊदी अरब के रियाद में स्थित असद सईद कांट्रेक्टिंग कम्पनी में नौकरी के लिए भेजा था, 4 साल बाद इमदाद छुट्टी लेकर अपने घर आया और फिर मार्च 2015 में वापस अपने काम पर सऊदी लौट गया , शुरुआत में सबकुछ ठीक चल रहा था, इमदाद हसन व परिवार के लोग काफी खुश थे, उनकी इमदाद हसन से हमेशा बात-चीत होती रहती थी, लेकिन फिर अचानक कुछ ऐसा हुआ कि परिवार के लोग सदमे में आ गये, अक्टूबर 2017 से परिवार के लोगों का सम्पर्क इमदाद से टूट गया, परिवार के लोगों ने इमदाद से सम्पर्क करने की बहुत कोशिश की लेकिन सम्पर्क नही हो पाया और ना ही कुछ पता चल पाया। अचानक हुए इस घटनाक्रम से परिवार के लोग सकते में आ गए और परीशान हो गए। अचानक से बेटे से सम्पर्क टूट जाने व उसके बारे में कुछ पता ना चल पाने के सदमे से इमदाद की मां बीमार रहने लगीं। अक्टूबर 2017 से बेटे से सम्पर्क नही होने की वजह से परेशान होकर शफीक ने पत्र के माध्यम से विदेश मंत्रालय से सम्पर्क करने की कोशिश की लेकिन किसी कारणवश जवाब नही आ पाया तो शफीक ने दिल्ली जाकर देवरिया के सांसद कलराज मिश्र से सम्पर्क किया और उन्हें अपना दुखड़ा सुनाया, इसको संज्ञान में लेते हुए सांसद कलराज मिश्र ने विदेश मंत्रालय को पत्र के माध्यम से पूरे मामले से अवगत कराया तो विदेश मंत्रालय से जवाब आया, जिसमे ये बताया गया है कि विदेश मंत्रालय द्वारा रियाद में स्थित भारतीय दूतावास को मामले से अवगत करा दिया गया है। इस पत्र के आने के बाद परिवार के लोगों में अपने बेटे को वापस देश मे वापसी की उम्मीद बढ़ गई है। पिछले 9 महीनों से अपने बेटे की खबर और देश वापसी की उम्मीद लगाए परिजनों को अब आशा की किरण दिखाई देने लगी है।
हम भी अपने चैनल के माध्यम से विदेश मंत्रालय से ये अपील करते हैं कि इस मामले में जल्द कार्यवाही करते हुए एक मां को उसके बेटे से मिलाने का काम किया जाए।

About Mohd. Akram

Mohd. Akram

Check Also

अस्पताल के मरीजों व तीमारदारो को शीघ्र वितरित किये जायेगें कम्बल-तबरेज

फतेहपुर। ठण्ड से मरीजो को राहत देने के लिये युवा नेता एवं समाजसेवी तबरेज वारसी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अभिनव व सोमदेव ने एसएफए चैंपियनशिप को सराहा : SFA के खिलाड़ियों को स्कॉलरशिप     |     ….. तो इस वजह से 7 अजूबों में शामिल किया गया एफिल टावर     |     ब्लेक होल का रहस्य !     |     बाइक व साइकिल की टक्कर में मजदूर घायल, हालात नाजुक     |     मुंबई से लखनऊ जा रहे विमान में बम होने की अफवाह से खलबली     |     अनाज के दाम नियंत्रित करने के लिए ठोस नीति बनाएं     |     कमल संदेश पदयात्रा के अंतर्गत लगाई चौपाल     |     लाल बहादुर शास्त्री स्कूल के बच्चों ने लगवाया रूबेला टीका     |     आम रास्ते से अतिक्रमण हटवाये जाने की डीएम से की मांग     |     अस्पताल के मरीजों व तीमारदारो को शीघ्र वितरित किये जायेगें कम्बल-तबरेज     |